संघर्ष से भरी रही गायिका अनुराधा पौडवाल की जिंदगी, पहले पति और फिर जवान बेटे को खोने से टूटा था दुखों का पहाड़

अनुराधा पौडवाल (Anuradha Paudwal) उन गायिकाओं में से एक है जिनकी आवाज में जादू है, जिसे सुनकर कोई भी मंत्रमुग्ध हो जाता है। 27 अक्तूबर यानी आज सुरों  की उसी मल्लिका का जन्मदिन है।

27 अक्तूबर 1954 को जन्मीं अनुराधा पौडवाल (Anuradha Paudwal) को बचपन से ही संगीत से खास लगाव था।अनुराधा पौडवाल ने अपने सिंगिंग करियर की शुरुआत साल 1973 में अमिताभ बच्चन और जया भादुड़ी की फिल्म ‘अभिमान’ से की थी। हालांकि उन्हें पहला ब्रेक सुभाष घई की फिल्म ‘कालीचरण (1973)’ में मिला।

फिल्म इंडस्ट्री में प्ले प्लेबैक सिंगर के तौर पर अनुराधा पौडवाल (Anuradha Paudwal) ने कई साल तक लोगों के दिलों पर राज किया।अनुराधा पौडवाल के फिल्मी करियर पर नजर डालें तो उनके गाए हुए गानों में, ‘आशिकी’ का ‘दिल है कि मानता नहीं’, ‘धक धक करने लगा’, ‘कह दो कि तुम हो मेरे, ‘तू मेरा हीरो है’, ‘बहुत प्यार करते हैं’, ‘तेरा नाम लिया’ जैसे गाने शामिल हैं जो आज काफी ज्यादा मशहूर हैं।

अनुराधा पौडवाल (Anuradha Paudwal) एक जानी मानी गायिका बन गईं लेकिन उनकी निजी जिंदगी उतनी ही ज्यादा दर्द भरी रही। अनुराधा पौडवाल की निजी जिंदगी पर नजर डालें तो उनका जीवन बहुत कष्टदायक रही है। अनुराधा पौडवाल की शादी अरुण पौडवाल से हुई जो खुद भी एक संगीतकार थे।  इस शादी से अनुराधा को दो बच्चे बेटा आदित्य और बेटी कविता हुए। शादी के बाद अनुराधा एक खुशहाल जीवन जी रही थीं लेकिन अचानक एक दुर्घटना में उनके पति अरुण पौडवाल की मृत्यु हो गई। इस हादसे से अनुराधा बुरी तरह टूट गईं। इसके बाद 2020 में उनके जवान बेटे आदित्य का किडनी की बीमारी के चलते निधन हो गया।  पति के बाद बेटे के जाने के गम ने अनुराधा पौडवाल को अंदर से तोड़ दिया।

 

 

Leave a Comment